February 25, 2021

खुलासा मीडिया

ख़बर की तह तक

पैक्स चुनाव में उन्नीस साल की लड़की ने मारी बाज़ी

कटिहार से रवि राज की रिपोर्ट

बिहार के कटिहार के सड़कों पर फर्राटे से स्कूटी को दौड़ा रही यह लड़की कोई साधारण लड़की नहीं है…..यह लड़की महज उन्नीस साल में त्रिस्तरीय पंचायती राज में पैक्स अध्यक्ष का चुनाव जीत कर बिहार के सबसे कम उम्र की महिला पैक्स अध्यक्ष है जिसने एक इतिहास रच दिया है. बी कॉम में पढ़ने वाली यह कटिहार के मनिहारी प्रखंड की रहने वाली साधना है जिसने बोलिया पंचायत में हाल ही हुए त्रिस्तरीय पंचायती राज के पैक्स चुनाव में जीत हासिल की है .इस चुनाव में साधना ने  423 वोट से जीत दर्ज की है . साधना के पिता 15 सालों से लगातार पैक्स चुनाव जीत कर अध्यक्ष बनते आ रहे थे .अपने पिता का राजनीतिक विरासत को संभालते हुए इस बार के चुनाव में साधना ने उम्मीदवार बनकर जीत हासिल की तो परिवार के साथ ही इलाके के  किसानों और महिलाओं में ख़ुशी की लहर दौड़ पड़ी .

चुनाव में जीत हासिल करते ही साधना ने किसानो को मदद पहुंचाने और उनको खाद बीज से लेकर उनकी फसल को बिना किसी हील हुज्जत के कह्रिदने का लक्ष्य बना लिया है . चुनाव जीतने के बाद से ही साधना अपने पिता के बताये रास्ते पर चलकर साधना ने अपने पंचायत में किसानों के साथ चौपाल लगाना शुरू किया है ताकि किसानो की चौपाल में बैठकर किसानो की समस्या से रूबरू हो सके . साधना बिहार की उपमुख्यमंत्री रेणु देवी और पूर्व आई पी एस किरण बेदी को अपना आइकॉन मानती है और इसी कारण  नारी सशक्तिकरण को बढ़ावा देने की खातिर किसानों की सेवा करने के लिए दृढ़ संकल्पित हुई है,

बोलिया पंचायत के किसानों ने बड़ी उम्मीद से अपना वोट देकर साधना को पैक्स अध्यक्ष के पद पर आसीन किया है..अब पंचायत के किसान अपने खेतों में कम पूंजी में अच्छा फसल पैदा कर मनचाहे मुनाफे कमाने की किरण साधना में ढूंढने लगे हैं, किसान काफी खुश हैं, मनिहारी प्रखंड की प्रखंड विकास पदाधिकारी ने साधना के जीत की जैसे ही औपचारिक घोषणा की तो खुशी में पंचायत की महिलायें डीजे की धुन पर नाचने लगी , महिला किसान पूजा कुमारी ने कहा की साधना को वोट देने की वजह यह है की साधना ने खेतो में आकर उन्हें उपज बेहतर करने के गुर बताये थे . तो दुसरे किसान ने भी साधना की जीत के बाद लाभ की बात कही है .

कटिहार लोक सभा क्षेत्र के सांसद दुलाल चाँद गोस्वामी ने साधना की जीत को नारी सशक्तिकरण का परिणाम बताते हुए  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा महिलाओं को दिए गए आरक्षण को कटिहार में सार्थक बताया और 19 वर्षीय साधना को किसानों के हित में पैक्स को बढ़ावा मिलने की बात कही है .

वहीं साधना बिहार सरकार द्वारा नारी सशक्तिकरण से प्रेरित होकर खुद राजनीतिक क्षेत्र में आने की बात कहते हुए पंचायत के किसानों के लिए बेटी की जगह बेटा बनकर काम करने का भरोसा जताई है .

बहरहाल , साधना ने छोटी उम्र में ही राजनीति में पैक्स अध्यक्ष बनकर जो इतिहास रचा है यह आने वाली पीढ़ियों के लिए एक माइल स्टोन है .