April 13, 2021

खुलासा मीडिया

ख़बर की तह तक

नवादा से गया पहुंचे हाथी से दहशत

गया से अजीत कुमार के साथ पंकज डबली की रिपोर्ट

बिहार में एक हाथी का खौफ कितना है यह तस्वीर और इससे आ रही आवाज़ को सुनकर आप समझ जायेंगे. नवादा में 4 लोगो की कुचल कर ह्त्या करने के बाद जब इस हाथी की धमक गया में सुनाई दी तो गया में हडकंप मच गया . इस हाथी के गुस्से से बचाने के लिए गया के वजीरगंज इलाके में प्रशासन की ओर से घोषणा कराया गया की हाथी के गुस्से से बचने के लिए लोग अपने घरो से बाहर नहीं निकलें क्योंकि नवादा से यह हाथी गया पहुँच गया है . 4 लोगो का कातिल इस हाथी को ढूढने के लिए गया वन विभाग के साथ ही प्रशासन की पूरी टीम हाथी देखे जाने वाले इलाके में कैम्प करने लगे हैं और हाथी को भगाने के लिए सर्च ऑपेरशन शुरू कर दिया गया .

दरअसल , झारखंड के जंगलों से नवादा होते हुए गया के वजीरगंज प्रखण्ड में हाथी आने की सूचना पर गया वन प्रमंडल के दर्जनों अधिकारी सुरक्षाबलो के साथ हाथी ढूढने में जुट गए . इस तस्वीर आपको गया से दिखा रहे हैं जहाँ हाथी की खोज में जुटे लोंगो को जंगली इलाको में उतारा गया और इस लोंगो को बार बार हाथी से सचेत रहने और उसको काबू में करने के निर्देश दिए जाते रहे . इस तस्वीर में आप देखिये की वन विभाग की टीम जंगलो में हरकारा कर रहे हैं ताकि हाथी कहाँ है इसकी टोह ली जा सके.

गया वन प्रमंडल,गुरूपा वन क्षेत्र,पटना जू की टीम,ट्रेंक्यूलाईजेड टीम सहित 100 से अधिक अधिकारी जंगलो में हाथी को ढूढने में जुटे हैं . इस हाथी का दहशत का अलाम यह है की वन विभाग के अधिकारी भले ही सैकड़ो की संख्या में हैं पर ये लोग सावधानी से किलर हाथी की तलाश कर रघे हैं . हालांकि की अधिकारी मानते हैं की यह हाथी पागल नहीं है वल्कि झुण्ड से अलग होने की वजह से गुस्सा में है और भीड़ को देखकर उतेजित होने कारण नवादा में इसने चार लोंगो को कुचल कर मौत के घाट उतार दिया है .नवादा की घटना के बाद गया वन प्रमंडल अलर्ट मोड में है. गया वन विभाग के अधिकारी कहते हैं की इस हाथी की तलाश के साथ ही इसे काबू में करने के लिए वन विभाग की कई टीमें लगी है और जरूरत पड़ी तो इस हाथी को ट्रेंक्यूलाईजर गन से काबू में किया जाएगा .

दरअसल आपको बता दें की हाथियों का स्वभाव है की एक दिन में साधारणतया नर हाथी 30 से 35 km चलता है . पर झुण्ड से निकाले जाने या झुण्ड से बिछड़ने के बाद इसका गति तेज होता है और यह एक दिन में पचास किलोमीटर तक चलता है और रास्ते में आने वाले पेड़ पौधों और फसल को काफी नुकसान पहुंचाता है . ऐसे हाथियों की खासियत यह होती है की यह दिन में हाथी सोता है और शाम ढलते ही वह निकल पड़ता है. ऐसे में लोंगो को सचेत किया गया है की वे शाम होते ही घरों में रहे और हाथी को देख कर भीड़ ना लगाएं .इसी कारण पुरे गया के वन क्षेत्र में वन विभाग ने माइक लगाकर कर चेतावनी जारी कराया है और गॉव गॉव में लोगो को वन विभाग का नम्बर जारी किया है ताकि सूचना मिलते ही वन विभाग की टीम मौके पर मौजूद हो सके .

बहरहाल इलाके के ग्रामीण दहशत में है लिहाजा वे अकेले जंगल या खेत की तरफ जाने से बच रहे हैं .इस इलाके में कुछ गाँव वालों ने जब शनिवार को इस हाथी को देखा तब से लोग रात में जग रहे हैं ताकि उनको हाथी के कोपभाजन नहीं बनना पड़े.

आप हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब कीजिये और देखते रहिये खुलासा. आप हमें खबर भी भेज सकते है हमारे नंबर पर. नंबर है -06127966001

Follow us on Social Network :
https://www.youtube.com/c/खुलासा​
https://www.khulasamedia.com​
https://www.facebook.com/khulasamedia​
https://www.twitter.com/khulasamedia

Breaking News : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, बिहार के सभी स्कूल एक सप्ताह और बंद रहेंगे : सभी दूकान और प्रतिष्ठान शाम सात बजे तक ही खुलेंगे
Breaking News : 30अप्रैल तक सभी धार्मिक स्थल बंद रहेंगे सरकारी कार्यालयों में ग्रुप ग और ग्रुप घ के 33 प्रतिशत कर्मी ही कार्यालय आएंगे
Breaking News : सभी दुकान और प्रतिष्ठान शाम 7 बजे तक ही खुलेंगे , कोविड के निर्देशों का पालन करना अनिवार्य
Breaking News : कोरोना को लेकर सर्वदलीय बैठक करने का निर्णय राज्यपाल बुलाएंगे सर्वदलीय बैठक
Breaking News : पब्लिक ट्रांसपोर्ट में 50 प्रतिशत सीटों पर ही यात्रा कर सकेंगे , निजी कार्यालयों में भी 35 प्रतिशत उपस्थिति सुनिश्चित करने का निर्देश